कामधेनु डेयरी योजना राजस्थान 2019 Online आवेदन पत्र | www.gopalan.rajasthan.gov.in

December 24, 2018 | By Lekhraj | Filed in: Application Forms, How to Apply, News, Rajasthan Government Schemes, सरकारी योजनाएं हिंदी में 2019-20.

गोपालन विभाग राजस्थान ने कामधेनु डेयरी योजना को पायलट प्रोजेक्ट के रूप में जयपुर जिले में शुरुआत की थी। कामधेनु डेयरी स्थापित करने के इच्छुक पशुपालक, गोपालक एवं लघु सीमान्त करिश्हाक जिनके पास डेयरी की आधारभूत सरंचना के निर्माण के लिए जगह के अतिरिक्त एक एकड़ स्वयं की जमीन हो, इस योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं।

कामधेनु योजना में एक ही नस्ल की 30 देशी, थारपारकर आदि दुधारू नयी गायें खरीदना आवश्यक होगा। आवेदक को पशुपालन या डेयरी का टीम से पांच वर्ष का अनुभव होना जरूरी है। आवेदक के पास ५० रूपए प्रति लीटर दुग्ध विक्रय करने की क्षमता होनी चाहिए। कामधेनु डेयरी योजना में महिलाओं को प्राथमिकता दी जाएगी।

गोपालन विभाग के निदेशक ने बताया की राजस्थान सरकार ने कामधेनु डेयरी योजना की शुरआत पशुपालकों की आय २०२२ तक दोगुनी करने के घोषणा के सन्दर्भ में विभाग ने यह योजना आरम्भ की है। अभी यह योजना केवल जयपुर जिले में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू की जा रही है।

कामधेनु डेयरी योजना राजस्थान योजना 2019 – कैसे करें आवेदन

जो भी पशुपालक इस योजना के लिए आवेदन करना चाहते हैं वो निचे दी गयी प्रक्रिया का अनुसरण कर सकते हैं:-

    • कामधेनु डेयरी योजना का ऑनलाइन आवेदन भरने के लिए आवेदक को सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट http://www.gopalan.rajasthan.gov.in पर जाना होगा।
    • उसके बाद ऊपर Programme & Schemes  सेक्शन में जाएँ और गौशाला रजिस्ट्रेशन पर क्लिक करें।
    • फिर आपको गौशाला रजिस्ट्रेशन एप्लीकेशन फॉर्म (Gaushala Registration / Application Form) पर क्लिक करना है।
    • रजिस्ट्रेशन फॉर्म को डाउनलोड करने के बाद उसमे पूछी गयी सारी जानकारी भरें।
    • एप्लीकेशन फॉर्म को सही तरीके से भरने के पश्चात आवेदन पत्र को संबधित जिला संयुक्त निदेशक पशुपालन विभाग में जमा करना होगा।
    • उसके बाद गौशाला रजिस्ट्रार आवेदन पत्र का परीक्षण कर राजस्थान गौशाला नियम 1964 के अंतर्गत गौशाला का पंजीकरण करके पंजीयन प्रमाण पत्र जारी करता है।

कामधेनु डेयरी योजना राजस्थान 2019 आवेदन

कामधेनु डेयरी योजना राजस्थान 2019 आवेदन

कामधेनु डेयरी योजना राजस्थान के पात्रता

जो भी पशुपालक इस योजना का फायदा लेना चाहते हैं सबसे पहले उन्हें सरकार के द्वारा निर्धारित की गयी पात्रता का अनुसरण करना है जो जो की निचे दी गयी है।

  • इच्छुक पशुपालक, गोपालक एवं लघु सीमान्त कृषक जिनके पास डेयरी की आधारभूत सरंचना के निर्माण के लिए जगह के अतिरिक्त एक एकड़ स्वयं के जमीन होनी चाहिए।
  • आवेदक के पास कामधेनु योजना के फायदा लेने के लिए एक ही नस्ल की 30 देशी (गीर, थारपारकर आदि) दुधारू गायें होनी चाहिए।
  • आवेदक को पशुपालन या डेयरी का तीन से पांच वर्ष का अनुभव होना जरूरी है।
  • आवेदक के पास 50 रूपए प्रति लीटर दुग्ध विक्रय करने की क्षमता होनी चाहिए।
  • अगर आवेदक कोई महिला है तो उसे प्राथमिकता दी जाएगी।

कामधेनु डेयरी योजना स्थापित करने के लिए आधारभूत सरंचना, उपकरण आदि के लिए 10:60:30 के अनुपात में 10 प्रतिशत राशि लाभार्थी से, 60 प्रतिशत राशि बैंक ऋण एवं 30 प्रतिशत राशि केंद्रीय राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के अंतर्गत सब्सिडी के रूप में होगी।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Content